Monday , October 25 2021

एसटीएफ के हत्थे चढ़ा मुख्तार अंसारी का शार्प शूटर अमित राय, 50 हजार का था इनाम

उत्तर प्रदेश के बांदा जेल में बंद मऊ के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी का शार्प शूटर और 50 हजार रुपए के इनामी शातिर अपराधी अमित राय गिरफ्तार कर लिया गया है। दरअसल, बीते मंगलवार को यूपी एसटीएफ ने अमित राय को अयोध्या के रौनाही टोल प्लाजा से गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि अमित राय के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, अपहरण जैसे कई गंभीर आरोपों के तहत मुकदमा दर्ज है।

अमित राय के खिलाफ दर्ज हैं कई आपराधिक मामले

इस गिरफ्तारी के बारे में जानकारी देते हुए एसटीएफ के डिप्टी एसपी धर्मेश कुमार शाही ने बताया कि शूटर अमित राय को रौनाही थाना क्षेत्र अंतर्गत टोल प्लाजा के पास से पकड़ा गया है। उसके पास से एक तमंचा और दो कारतूस बरामद किया गया है।

उन्होंने बताया कि अमित राय के अयोध्या में होने का इनपुट मिला था। इस पर उप निरीक्षक सत्येंद्र विक्रम सिंह के नेतृत्व में एक टीम जनपद अयोध्या रवाना की गई थी। टीम को अयोध्या में पता चला कि शार्प शूटर अमित राय अयोध्या से कहीं और भागने की फिराक में है।

बताया गया है कि अमित राय अपने गांव व कुछ अन्य बाहरी युवाओं के साथ मिलकर अपराध करता है। वर्ष 2011 में उसने अपने गांव के ही बचपन के साथी अनूप राय के साथ मिलकर संतोष राम पुत्र दीपन राम निवासी अताउल्लाह पुर थाना नोनहरा जनपद गाजीपुर का अपहरण किया था। इस मामले में थाना नोनहरा में उसके विरुद्ध मुकदमा दर्ज हुआ था।

इस मामले में अमित को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था, हालांकि जेल से वापस आने के बाद use जेल भेज दिया गया। हालांकि, जमानत पर छूटकर वापस आने के बाद भी वह आपराधिक घटनाओं को अंजाम देता रहा।

अमित राय की अपने गांव में ही रहने वाले रविंद्रनाथ राय से साथ राजनीतिक दुश्मनी चल रही थी। इसी वजह से उसने अपने मिट अनूप राय के साथ मिलकर रविंद्रनाथ राय व उनके घर वालों को जान से मारने की योजना बनाई और इन लोगों ने पूर्व नियोजित योजना के तहत इसी वर्ष 16 मई की रात रविंद्रनाथ राय व उनके परिजनों पर पड़ोस में तेरहवीं में जाते समय हत्या करने की नियत से फायरिंग की परंतु रविंद्रनाथ राय व परिजनों ने घर में घुसकर अपनी जान बचा ली थी।

यह भी पढ़ें: तालिबान का समर्थन कर बुरे फंसे सपा सांसद शफीकुर्रहमान, सीएम योगी ने की फजीहत

इस घटना में रविंद्रनाथ राय के घर के कई लोग घायल हुए थे। घटना में तीन लोगों के खिलाफ थाना करीमुद्दीन में अभियोग पंजीकृत हुआ था। इसके बाद से यह फरार चल रहा था और इस कारण से इस पर 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया था। बताया गया कि इस गिरफ्तारी का मुकदमा जनपद अयोध्या के रौनाही थाने में दर्ज कराया गया है जिसकी कानूनी कार्रवाई थाना स्थानीय पुलिस कर रही है।