Monday , October 25 2021

बिहार के भोजपुर के कई गांवों में आई बाढ़,डेंजर लेवल से ऊपर बह रही गंगा

बिहार के भोजपुर जिले में गंगा नदी ने बड़हरा और शाहपुर प्रखण्ड के लोगो की बेचैनी बढ़ा दी है।जिले में गंगा नदी रविवार को खतरे के निशान को पार करते हुए करीब 50 सेंटीमीटर ऊपर बहने लगी है। शाहपुर और बड़हरा के कई गांवों में बाढ़ का पानी तेजी से खेत खलिहानों में पसर रहा है।कई गांवों का संपर्क मुख्य सड़क से भंग हो गया है।खेतो में लगी फसलें डूब गई है और किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है।

भोजपुर में तेजी से बढ़ते गंगा के जल स्तर को देखते हुए जिला प्रशासन पूरी तरह सतर्क हो गया है। जिलाधिकारी रोशन कुशवाहा ने अलर्ट जारी करते हुए अभियंताओं को बाढ़ की सतत निगरानी करने का निर्देश दिया है।बाढ़ के किसी भी प्रकार के खतरे से निपटने के लिए सभी स्तरों पर तैयार रहने का भी निर्देश दिया है।

प्रयागराज और इलाहाबाद में गंगा के बढ़ते जल स्तर का सीधा असर बक्सर और भोजपुर जिले में पड़ रहा है।बढ़ते जल स्तर के साथ गंगा की तेज धार अपने मार्ग से अलग अब गांवों की सीमाओं को छूने लगी है।प्रति घण्टे दो सेंटीमीटर की रफ्तार से बढ़ते जल धारा ने बाढ़ प्रभावित गांवों के ग्रामीणों की नींद हराम कर दी है।बाढ़ के बढ़ते खतरे से खेती,पशु,चारे और ग्रामीणों की दैनिक दिनचर्या पर संकट आ गया है।

गंगा नदी के ऊपरी जल ग्रहण क्षेत्रो में भारी वर्षा और यमुना नदी में तेज उफान के बाद गंगा नदी के जल स्तर में तेजी से वृद्धि होने लगी है।बड़हरा प्रखण्ड के नेकनाम टोला, लौहर फरना,पैगा, बखोरापुर, दुबे छपरा, गुंडी,बभनगावां,सेमरिया,केशोपुर,सोहरा, त्रिभुवानी, केवटिया, नरगदा,सिन्हा आदि कई गांवों में बाढ़ का पानी पसर चुका है।सैकड़ो बीघे में लगी फसलें डूब गई है।सब्जियों की खेती बर्बाद हो गई है।

बड़हरा प्रखण्ड के फरना बखोरापुर, केशोपुर सरैयां, बिराहिमपुर पंडितपुर,बड़हरा एकौना संपर्क पथ पर बाढ़ का पानी चढ़ गया है और इन सड़कों का संपर्क मुख्य सड़क, प्रखण्ड मुख्यालय और जिला मुख्यालय से भंग हो गया है।आरा प्रखण्ड के बलुआ, मथवलिया,लक्ष्मणपुर,बारा, बसंतपुर, धुंधुआँ,पिपरा जयपाल,चौमुखा, पिरौटा, जगवलिया आदि कई गांवों तक बाढ़ का पानी पहुंच गया है।

यह भी पढ़ें: नीरज चोपड़ा ने अपना ओलंपिक स्वर्ण पदक मिल्खा सिंह और पीटी उषा को किया समर्पित

बाढ़ को देखते हुए जिले के आधा दर्जन प्रखण्डों के बीडीओ,सीओ,पीएचईडी के अभियंताओं और सम्बन्धित अधिकारियों को राहत और बचाव कार्य को लेकर चौबीस घण्टे सतर्क रहने का निर्देश जिलाधिकारी ने दिया है।आपदा प्रबंधन समूह से जुड़े सभी अधिकारी फिलहाल अलर्ट मोड में हैं और जिले में तेजी से पांव पसारते बाढ़ से निपटने की तैयारी में जुट गए हैं।