Wednesday , January 20 2021

एस्मा लगाये जाने पर कड़ा एतराज जताया कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति ने

लखनऊ। प्रदेश के  लाखों कर्मचारियों, शिक्षक, पेंशनर्स, दैनिक श्रमिक संविदा कर्मचारी संगठनों के संयुक्त फोरम उत्तर प्रदेश कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति ने राज्य सरकार द्वारा आज अत्यावश्यक सेवा अनुरक्षण अधिनियम (ESMA) एस्मा लगाये जाने के आदेश पर कड़ा एतराज जताया है जिसके द्वारा राज्य सेवाओं मे हड़ताल पर प्रतिबंध लगाया गया है।

यह भी पढ़ें: यूपी में हड़ताल पर 6 महीने तक प्रतिबंध, इतने महीने की सजा का है प्रावधान

एस्मा लगाये जाने पर कड़ा एतराज जताया कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति ने

विधान परिषद मे शिक्षक दल के नेता एवं समन्वय समिति/शिक्षक महासंघ/माध्यमिक शिक्षक संघ अध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा एम.एल.सी. , समिति समन्वयक अमरनाथ यादव,प्रवक्ता बी.एल.कुशवाहा तथा समन्वय समिति से जुड़े दर्जनों महासंघों/परिसंघों/संघों के शीर्ष पदाधिकारियों ने कहा कि एक ओर तो सरकार कर्मचारी, शिक्षक, पेंशनर, केजुवल श्रमिक संविदा कर्मियों के हितों के विपरीत निरंतर फैसले करते हुये मार कर रही है दूसरी ओर रोने भी नहीं देना चाहती। जायज आवाज को भी दबाने का प्रयास कर रही है। भय दिखाकर चाहती है कि उसके अप्रिय निर्णयों पर भी कोई सवाल न उठाये परन्तु जिनके हित प्रभावित हो रहे हैं वह चुप कैसे बैठ सकते हैं।

यह भी पढ़ें: शादी दावत में 350 मेहमान, दूल्हा-दुल्हन के पिता व बैंक्विट हॉल मालिक पर मुकदमा

एस्मा लगाने पर एतराज जताने वाले कर्मचारी शिक्षक प्रतिनिधियों ने कहा कि दिनों दिन बेतहाशा बढ़ती महगाई मे निम्न एवं मध्यम आय वर्ग कर्मचारी शिक्षक परेशान हैं । गुजर बशर मुश्किल है। ऊपर से महगाई भत्ता/महगाई राहत पर जनवरी 2020 से जून 2020 तक रोक लगाकर एरियर जब्त कर लिया गया है। तमाम भत्ते समाप्त कर दिये गये है। कोरोना काल मे विभिन्न विभागों के सरकारी कर्मी शिक्षक ही अपनी व परिवार की परवाह किये बगैर निरंतर फ्रंट लाइन पर कोरोना वारियर्स के रूप मे लगे हुये है,उन्हें भी वेतन भत्तों की कटौती से नहीं बख्शा गया। इस आपदा काल मे कार्पोरेट घराने/निजी पूजीपति वर्ग व उनका अमला कहीं दिखाई नहीं दिये जिन्हें संस्थानों को बेचने का उपक्रम किया जा रहा है।

एस्मा लगाने पर एतराज जताने वाले कर्मचारी बोले कि विभिन्न विभागों मे लाखों रिक्त पदों पर नियमित नियुक्तियां नहीं होने से कार्यरत कर्मी काम के अतिरिक्त बोझ का सामना कर रहे हैं वहीं इनके घरों मे भी बेरोजगार युवा बैठे हैं। तमाम सरकारी संस्थानों, सार्वजनिक उपक्रमों का अंधाधुंध निजीकरण किया जा रहा है जिससे इनमें कार्यरत कर्मियों की सेवा पर भी संकट है। ऐसी स्थितियों मे वर्किंग क्लास संगठनों के पास सामूहिक रुप से अपनी आवाज उठाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।