Saturday , March 6 2021

बंगाल चुनाव से पहले खून से सन गई खादी, बीजेपी-तृणमूल की जंग दिखा रही नया रंग

पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां अब हिंसक जंग की ओर बढ़ चली है। बीजेपी रैली के दौरान तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच होने वाली हिंसक झड़प तो अब आम बात हो गई है। हालांकि, इस बार राजनीतिक हिंसा की ऎसी खबर सामने आई है, जिससे बंगाल की खादी खून के रंग में सनी नजर आने लगी है।

तृणमूल कार्यालय के बाहर हुई फायरिंग

एक न्यूज चैनल से मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार शाम दक्षिणी दिनाजपुर में तृणमूल कांग्रेस के दफ्तर के बाहर गोलियों की गूंज सुनाई दी। यहां हुई फायरिंग में तृणमूल के दो कार्यकर्ताओं की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि यह घटना बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी की सभा से ऐन पहले हुए हंगामे के कुछ देर बाद हुई।

इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए पश्चिम बंगाल के बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस में घमासान चल रहा है। आपस में लड़कर मर रहे हैं। कल भी आपस में गोली चली। पूरे बंगाल में पार्टी के अंदर हिंसा शुरू हो गई है। इससे समाज पर प्रभाव पड़ रहा है।

आपको बता दें कि पुरुलिया की रैली में सीएम ममता बनर्जी ने आज ही दावा किया था कि कुछ दिनों से वह देख रही हैं कि बीजेपी उनकी बैठकों में बाधा बनने के लिए कुछ लोगों को भेज रही है। ऐसे में अब वह भी बीजेपी और सीपीएम की मीटिंग में खलल डालने के लिए लोगों को भेजेंगी।

यह भी पढ़ें : बीजेपी पर आरोप लगाते हुए अपना आपा खो बैठी ममता बनर्जी, दे डाली बड़ी धमकी

बीजेपी पर निशाना साधते हुए सीएम ममता बनर्जी ने कहा था कि विपक्ष को डराने और धमकाने के लिए बीजेपी आईटी का इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने फर्जी खबरें फैलाने के लिए व्हाट्सएप ग्रुप बनाए हैं। बीजेपी नक्सलियों से कहीं ज्यादा खतरनाक है। बीजेपी ने बिरसा मुंडा का अपमान किया। वे कहते हैं कि बंगाल, लेकिन वे वोट के लिए कंगाल हैं।