Friday , September 24 2021

भारत में फिर हो सकती है TikTok की वापसी, इस नए नाम के साथ लौटेगी कंपनी

TikTok जल्द ही भारत में वापसी कर सकता है क्योंकि इसकी मूल कंपनी बाइटडांस ने पेटेंट, डिजाइन और ट्रेड मार्क्स के कंट्रोलर जनरल के साथ शॉर्ट-फॉर्म वीडियो ऐप के लिए एक ट्रेडमार्क दायर किया है। यह उन 59 चीनी ऐप्स में से एक था, जिन पर सरकार ने पिछले साल जून में प्रतिबंध लगा दिया था। प्रतिबंध के तुरंत बाद, टिकटॉक ऐप को ऐप स्टोर से हटा लिया गया और भारतीय नेटवर्क पर यह अनएक्सेसिबल हो गया। हालांकि, फेसबुक के इंस्टाग्राम सहित प्लेटफार्मों ने इसी तरह के एक्सपीरियंस को इंटीग्रेट किया, जो मूल रूप से भारतीय यूजर्स के लिए अपने अंतर को भरने के लिए टिकटॉक पर उपलब्ध था।

बाइटडांस ने 6 जुलाई को टिकटॉक के लिए “TickTock” टाइटल के साथ ट्रेडमार्क आवेदन दायर किया। आवेदन, जिसे पहले ट्विटर पर टिपस्टर मुकुल शर्मा द्वारा रिपोर्ट किया गया था, को ट्रेड मार्क रूल्स 2002 की चौथे शेड्यूल की क्लाक 42 के तहत दायर किया गया था। ये नियम, “वैज्ञानिक और टेक्निकल सर्विस और उससे संबंधित रिसर्च और डिजाइन, इंडस्ट्रियल एनालिसिस और रिसर्च सर्विस, कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का डिजाइन और डेवलपमेंट के लिए हैं।”

बाइटडांस सरकार से कर रही बातचीत

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, टिकटॉक को देश में वापस लाने के लिए बाइटडांस सरकार से बातचीत कर रही है। चीनी कंपनी ने अधिकारियों को यह भी आश्वासन दिया कि वह नए आईटी नियमों का पालन करने के लिए काम करेगी। 2019 में बाइटडांस ने भारत में अपना मुख्य नोडल और शिकायत अधिकारी नियुक्त किया। यह ‘महत्वपूर्ण’ सोशल मीडिया मध्यस्तता के लिए आईटी नियमों की प्रमुख आवश्यकताओं में से एक है, जिनके देश में 50 लाख से अधिक यूजर हैं।

हालांकि, नोडल और शिकायत अधिकारी होने के बावजूद, चीन के साथ सीमा तनाव के बीच देश की “संप्रभुता और अखंडता” को खतरे में डालने के लिए बाइटडांस के स्वामित्व वाले टिकटॉक को पिछले साल देशव्यापी प्रतिबंध का सामना करना पड़ा। प्रतिबंध के महीनों बाद, बाइटडांस ने कथित तौर पर देश में अपने बिजनेस को रिस्टोर करने के लिए टिकटॉक में निवेश के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ चर्चा की थी। हालांकि, उस चर्चा ने कोई बदलाव लाने में मदद नहीं की।

यह भी पढ़ें: सुशांत सिंह राजपूत की बहन ने खोला मोर्चा, विकिपीडिया के फाउंडर से की है ये मांग

अपने प्रतिबंध के समय, देश में टिकटॉक के लगभग 20 करोड़ यूजर थे। उन यूजर्स को क्रमशः अपने इंटीग्रेट रील और शॉर्ट्स के माध्यम से इंस्टाग्राम और यूट्यूब सहित प्लेटफार्म द्वारा आकर्षित किया गया था। वहीं नेशनल लॉकडाउन के बीच शॉर्ट-फॉर्म वीडियो ऐप्स की मांग पर इसके प्रतिबंध और नकदी का लाभ उठाने के लिए कुछ भारतीय टिकटॉक विकल्प भी बाजार में उभरे हैं।