Wednesday , May 12 2021

नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी का खुलासा, क्राइम ब्रांच ने कसा शिकंजा

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कोटद्वार, हरिद्वार और रुड़की में छापा मारकर नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने की कंपनी का भंडाफोड़ करते हुए पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। यह लोग सांसों के संकट से जूझ रहे लोगों पर सितम ढा चुके हैं। क्राइम ब्रांच ने हरिद्वार के रानीपुर क्षेत्र टिहरी विस्थापित कॉलोनी से भी एक आरोपित को दबोचा है। उसकी निशानदेही पर रुड़की से भी एक व्यक्ति की गिरफ्तारी की गई है।

क्राइम ब्रांच ने आरोपियों पर कसा शिकंजा

कोटद्वार स्थित एक कंपनी से यह सब किया जा रहा था। आरोपित अब तक नकली 2000 रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाकर बाजार में सप्लाई कर चुके हैं। क्राइम ब्रांच की टीम आरोपितों को साथ दिल्ली लेकर रवाना हो गई। दिल्ली पुलिस की छापेमारी से शासन-प्रशासन में हड़कंप है। क्राइम ब्रांच ने दिल्ली में महाराष्ट्र के पुष्कर को नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के साथ दबोचा था। वह कोरोना मरीजों के परिजनों को एक इंजेक्शन 25 हजार रुपये में बेच रहा था। उससे पूछताछ में नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन सप्लाई के तार कोटद्वार, हरिद्वार और रुड़की से जुड़े मिले।

दबोचे गये आरोपित की निशानदेही पर दिल्ली के चाणक्यपुरी थाने के उप निरीक्षक कमल कुमार के नेतृत्व में दिल्ली पुलिस  क्राइम ब्रांच की टीम ने सबसे पहले कोटद्वार में छापा मारा। वहां कुछ लोगों को गिरफ्तार करते उनके पास से 3000 खाली शीशी व एक मशीन बरामद की।

कोटद्वार से गिरफ्तार आरोपितों की निशानदेही पर क्राइम ब्रांच टीम ने यहां ड्रग इंस्पेक्टर अनीता भारती की मौजूदगी में रानीपुर कोतवाली क्षेत्रान्तर्गत गली नम्बर 4 टिहरी विस्थापित काॅलोनी हरिद्वार में छापा मारकर वतन कुमार सैनी पुत्र मांगे राम सैनी निवासी सुभाषनगर ज्वालापुर हाल निवासी टिहरी विस्थापित काॅलोनी को दबोचा। उसके घर से टीम ने 3000 खाली शीशी सहित अन्य समान बरामद किया है। सैनी ने इस रैकेट में शामिल रुड़की के आदित्य कुमार गौतम की जानकारी दी। इसके बाद रुड़की में छापा मारकर गौतम को गिरफ्तार किया गया। टीम ने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन मामले में पांच लोगों की गिरफ्तार किया है। सभी को लेकर टीम दिल्ली रवाना हो गई।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस ने खोल दी बीजेपी सरकार की बड़ी साजिश की पोल, किया बड़ा खुलासा

ड्रग इंस्पेक्टर अनीता भारती के मुताबिक पूछताछ में आरोपित वतन सिंह सैनी ने बताया कि वह लोग बाजार से टेगजिम नाम का इंजेक्शन खरीदकर उन पर रेमडेसिविर इंजेक्शन का रेपर लगा कर बाजार में सप्लाई करते थे। अभी तक उन्होंने 2000 ऐसे इंजेक्शन सहारनपुर, मुजफ्फरनगर और दिल्ली में सप्लाई कर चुके हैं।