Wednesday , May 12 2021

भोर के तीन से पांच बजे के बीच नींद खुलने का रहस्य, जानकर रह जाएंगे हैरान

जिस व्यक्ति की नींद सुबह तीन बजे से पांच बजे अर्थात ब्रह्ममुहूर्त में खुलती है वह व्यक्ति कैसे संसार के बाकी व्यक्तियों से अलग होते हैं, ऐसे मनुष्य से भगवान क्यों प्रसन्न रहते हैं और भगवान श्रीकृष्ण ने ब्रह्म मुहूर्त के बारे में क्या कहा है। तो आइए जानते हैं ब्रह्म मुहूर्त में नींद खुलने वाले मनुष्य के बारे में।

जब ब्रह्मा जी ने पत्नी की रचना की थी तब उन्होंने मनुष्य के कई ऐसे प्रश्नों और रहस्यों को अनउत्तरित और अनसुलझा छोड़ दिया था। इसी में से एक प्रश्न है ब्रह्म मुहूर्त के बारे में अर्थात किसी मनुष्य का भोर के तीन बजे से पांच बजे के बीच में जागना। जिस मनुष्य की नींद तीन बजे से पांच बजे के बीच में खुलती है, उस मनुष्य की आयु लंबी होती है। वह मनुष्य हमेशा खुश और ऊर्जावान बना रहता है।

शास्त्रों में कहा भी गया है कि… वर्णं कीर्तिं गतिं लक्ष्मी स्वास्थ्यमायुश्च विदन्त। ब्राह्मो मुहूर्ते संजाग्रच्छि वा पंकज यथा।। अर्थात ब्रह्म मुहूर्त में जागने से व्यक्ति को अच्छा रूप, धन-दौलत, अच्छा स्वास्थ्य और लंबी आयु की प्राप्ति होती है। क्योंकि ब्रह्म मुहूर्त ही वह समय है जब ब्रह्मा जी ने पृथ्वी की रचना की थी। ब्रह्म मुहूर्त अर्थात तीन से पांच बजे के बीच के समय को आप निर्माण काल का समय भी कह सकते हैं। तो इस समय आप भी अपने अंदर शक्ति और ऊर्जा का निर्माण कर सकते हैं, अच्छे विचारों का निर्माण कर सकते हैं।

यह भी पढ़े: माही विज ने शेयर किया सी सेक्शन डिलीवरी का अनुभव, पोस्ट पढ़कर भर आईं आंखे

यहां तक की हमारे वेद, पुराणों और शास्त्रों में भी ब्रह्म मुहूर्त के समय को किसी भी कार्य को करने का सबसे अच्छा समय बताया गया है। तो अगर आपकी भी नींद ब्रह्म मुहूर्त में अर्थात तीन से पांच बजे के बीच में खुलती है तो आपसे बड़ा भाग्यशाली कोई नहीं हो सकता।