Tuesday , June 22 2021

आत्मनिर्भर भारत ने किये ट्विटर के दांत खट्टे, तमाम नेताओं ने किया koo का रुख

भारत ने आत्मनिर्भरता की ओर एक और सीढ़ी चढ़ी है। आत्मनिर्भर भारत की शुरुआत पीएम नरेंद्र मोदी मार्च 2020 में की थी, जब उन्होने आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी। कोरोना काल में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए भारतीय ऐप आरोग्य सेतु, संदेश, भीमऐप लॉच किया गया था। विवादो से घिरे ट्विटर ने जब कुछ अकाउंट पर ब्लु टिक हटा दिया गया है तो Koo ऐप की अहमियत बढ़ती गई। तो भारतीय ऐप Koo भी किसी से कम नहीं है। कई राजनेता और बॉलीवुड हस्तियां इस ऐप से जुड़ चुकी है। Koo ऐप की भी लोकप्रियता बढ़ती दिख रही है। आज सुबह उपराष्ट्रपति नायडू और RSS प्रमुख मोहन भागवत के अकांउट से ट्विटर ने वैरिफिकेशन बैज हटा दिया गया है। देश की तमाम बड़ी पार्टियों के नेता अब Koo App पर अपने ऑफिशियल एकाउंट बना रहे हैं। कांग्रेस, आप, एनसीपी समेत बड़ी पार्टियों के नेता बना रहे Koo App पर अकाउंटपिछले कुछ हफ्तों से केंद्र सरकार और ट्विटर के बीच चल रहे घमासान के बीच तमाम बड़ी पार्टियों के नेताओं ने Koo App का रुख किया है।

इन नेताओं ने किया Koo का रूख

जानकारी के मुताबिक राजस्थान के मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक गहलोत ने हाल ही में अपना ऑफिशियल अकाउंट Koo App पर बनाया है। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी Koo App पर काफी पॉपुलर हो रहे हैं। इधर आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह भी इन दिनों इस माइक्रो-ब्लॉगिंग ऐप पर काफी एक्टिव हैं। आम आदमी पार्टी के विधायक और वरिष्ठ नेता राघव चड्ढा भी प्लेटफॉर्म पर लगातार पोस्ट कर रहे हैं। भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर रावण और लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान भी Koo App पर एक्टिव बताया जा रहा है कि ट्विटर के भारत में बंद के अंदेशे के बीच बड़े और प्रभावी नेताओं ने मेड इन इंडिया ऐप्स का रुख किया है।

चुनावों में नेताओं का रूख

एक तरफ जहां कई बड़े नेताओं के जल्द कू पर आने की उम्मीद है तो वहीं अगले साल होने जा रहे  उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों को देखते हुए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के नेता भी जल्द अपने अकाउंट कू ऐप पर बना सकते हैं।

यह भी पढ़ें: अदालत ने ‘बंदूकों पर प्रतिबन्ध’ को बताया संवैधानिक अधिकार का हनन, सुना दिया बड़ा फैसला

ये है डाउनलोड का तरीका

सबसे पहले अपने मोबाइल के ऐप स्टोर पर जाएं। यहां Koo App सर्च करें। ऐप को डाउनलोड करने के बाद आपको अपने मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी के जरिए रजिस्टर करना होगा। एक बार प्रोसेस पूरा होने के बाद आप अपने पसंदीदा लोगों Koo App पर फॉलो कर सकते हैं। अपने स्थानीय भाषा में करें लोगों से बातKoo App की सबसे खास विशेषता ये है कि इस माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म को यूज करने के लिए आपको अंग्रेजी के ज्ञान की जरूरत नहीं है। आप यहां हिंदी, तमिल, तेलुगु, कन्नड या मराठी में लोगों से बात कर सकते हैं।