Sunday , November 29 2020

यूएई ने लिया ऐसा फैसला, बढ़ गई पाकिस्तान की मुसीबतें, भारत को दी राहत

लगातार एक के बाद एक मुश्किलों में घिरते जा रहे पाकिस्तान को अब एक और झटका लगा है। इस बार यह झटका उसे यूनाइटेड अरब अमीरात (यूएई) ने दिया है। दरअसल, यूएई ने बीते बुधवार को पाकिस्तान सहित 12 देशों के लोगों के लिए नए वीजा जारी करने पर अस्थायी रोक लगा दी है। इस बात की पुष्टि पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने भी की है। पाकिस्तान कोरोना वायरस और आर्थिक संकट की मुसीबत से पहले से ही ग्रसित था, यूएई ने यह फैसला लेकर पाकिस्तान की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं।

वीजा को लेकर यूएई की रोक पर विदेश मंत्रालय ने दिया बयान

इस बात की पुष्टि करते हुए पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जाहिद हाफिज चौधरी ने अपने एक बयान में कहा कि यूएई ने ये फैसला संभवत: कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए किया है। हमें पता चला है कि यूएई ने कुल 12 देशों के लिए अगली घोषणा तक नए वीजा जारी करने पर रोक लगा दी है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि यूएई प्रशासन से इस संबंध में आधिकारिक पुष्टि के लिए कोशिशें की जा रही हैं। हालांकि, यूएई ने भारतीयों के लिए ऐसा कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि पहले से जारी किए जा चुके वीजा या आवेदन किए गए वीजा पर इस फैसले का कोई असर नहीं पड़ेगा। हालांकि, अभी तक ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि वीजा की कितनी कैटिगरी पर ये प्रतिबंध लागू किया जाएगा। यूएई कई कैटिगरी जैसे- बिजनेस, टूरिस्ट, ट्रांजिट और स्टूडेंट में वीजा जारी करता है। यूएई में तमाम पाकिस्तानी काम करने के लिए जाते हैं, ऐसे में यूएई का ये फैसला पाकिस्तान के लिए किसी झटके से कम नहीं है।

आपको बता दें कि यूएई ने अपने नए वीजा नियम में पाकिस्तान के अलावा टर्की, ईरान, यमन, सीरिया, इराक, सोमालिया, लीबिया, केन्या और अफगानिस्तान के लोगों पर अस्थायी रूप से रोक लगाई गई है। बताया जा रहा है कि यूएई ने यह फैसला उन देशों के खिलाफ लिया है, जिन्हें कोरोना ने हाई रिस्क जोन में रखा है।  

यह भी पढ़ें: यूपी में लव जिहाद के खिलाफ जल्द बनेगा क़ानून, योगी सरकार ने बढाया पहला कदम

आपको बता दें कि मोदी सरकार के कार्यकाल में भारत और यूएई के संबंधों में घनिष्ठता बढ़ी है, जबकि पाकिस्तान से सम्बन्ध में दरार पड़ी है। कश्मीर के मुद्दे पर भी यूएई ने भारत का खुलकर समर्थन किया था।