Wednesday , September 30 2020

चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पदों पर तत्काल भर्ती शुरू करवाये सरकार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी महासंघ की एक अति आवश्यक बैठक प्रदेश अध्यक्ष रामराज दुबे की अध्यक्षता में कार्यालय प्रमुख अभियन्ता लोक निर्माण विभाग प्रागंण में सम्पन्न हुई।बैठक का संचालन प्रदेश महामंत्री सुरेश सिंह यादव ने किया बैठक में कोरोना काल में सरकार द्वारा सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ किए जा रहें निर्णय पर नाराजगी जाहिर की गई। कोरोना योद्धा के रूप में कार्य कर रहे सरकारी कर्मचारियों के पहले भत्ते काटे गये, डीए सीज किया गया, 50 वर्ष के बाद जबरन सेवानिवृत्त किये जाने और अब नई नियुक्ति बन्द कर संविदा कर्मचारियों के रूप में भर्ती जिसका स्थायीकरण 5 वर्ष बाद समीक्षा के उपरान्त किया जायेगा। जिससे सरकारी कार्य निश्चित रूप से प्रभाािवत होगा। सरकार की इस नीति से योग्य कर्मिकों का सरकारी सेवा से मोह भंग हो रहा है।

कोरोना काल में राज्य सरकार के कर्मचारियेां के शोषण करने का एक नया तरीका निकाल लिया है। सरकार ने किसी भी कर्मचारियों को संविदा पर भर्ती के बाद 5 वर्ष तक उसकी समीक्षा करने का निर्णय लिया है और हर 6 महीने में समीक्षा की जायेगी। सरकार की इस कर्मचारी विरोधी व्यवस्था में सभी सेवा संवर्गो के हित प्रभावित होंगे सरकार का यह कर्मचारी विरोधी फार्मूला स्वीकार नहीं है।मांग की गई कि चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पदों पर तत्काल भर्ती शुरू करवाये बैठक में कर्मचारी विरोधी नीतियों का विरोध किया जायेगा। बैठक में कार्यवाहक अध्यक्ष महेन्द्र कुमार, पाण्डेय वरिष्ठ उपाध्यक्ष भारत सिंह यादव, जगदीश सिंह, दूधनाथ माया देवी, सीता राम, रामयश, निसार अहमद, भाईलाल नान्हू प्रसाद, शिव कुमार, नौरिशा पौल, सुनील कुमार वर्मा, राम जी तिवारी, जीतेन्द्र सिंह, नेगी संजय तिवारी, राजनीश, जय प्रकाश, माया देवी, राजकुमार, पी0एम0 पाण्डेय, शैलेश त्यागी, लाल जी प्रसाद, छोटे लाल, हुसैन अब्बास, राजू, इच्छा शंकर, रविशंकर, मो0 इरफान, राज नारायन पाल, श्याम सुन्दर, संजय श्रीवास्तव, मानसिंह, केवी जोशी, कलावति तिवारी आदि मौजूद रहे ।