Saturday , March 6 2021

आजम के ड्रीम प्रोजेक्ट को लगी योगी सरकार की नजर, कई बीघे पर जमाया कब्जा

समाजवादी पार्टी के सांसद और उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान के ड्रीम प्रोजेक्ट को योगी सरकार की नजर लग गई है। उनकी जौहर यूनिवर्सिटी की कई बीघा जमीन पर यूपी सरकार ने कब्जा जमा लिया है। बता दें कि आजम खान की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं।

तांडव के बाद अब मुश्किल में फंसी गुड्डू पंडित वाली मिर्जापुर, दर्ज हुई एफआईआर

आजम के ड्रीम प्रोजेक्ट को लगी योगी सरकार की नजर, कई बीघे जमीन पर जमाया कब्जा

दरअसल, पिछले कई महीनों से सलाखों में कैद आजम खान को एक बार फिर बड़ा झटका लगा है। बता दें कि आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी की 1400 बीघा जमीन अब यूपी सरकार की हो गई है। राजस्व अभिलेखों में जमीन से जौहर ट्रस्ट का नाम काट कर यूपी सरकार के नाम पर चढ़ा दी गई है। आजम के ड्रीम प्रोजेक्ट को लगी योगी सरकार की नजर, कई बीघे जमीन पर जमाया कब्जा।

आजम खान के ड्रीम प्रोजेक्ट जौहर यूनिवर्सिटी में साढे़ 12 एकड़ से अधिक भूमि पर अब यूपी सरकार का कब्जा है। बता दें कि ये कार्रवाई 16 जनवरी को एडीएम प्रशासन जेपी गुप्ता की कोर्ट के आदेश के बाद हुई है।

दरअसल, सपा सरकार के दौरान आजम खान के जौहर ट्रस्ट ने कुछ शर्तों के साथ ये जमीन खरीदी थी। बीजेपी नेता आकाश सक्सेना ने आरोप लगाया था कि जमीन खरीदने के बाद शर्तों का पालन नहीं किया गया था। बीजेपी नेता के आरोपों के बाद मामले की जांच की गई। तत्कालीन एसडीएम सदर ने जांच में इन शिकायतों को सही पाया था। आजम खान के खिलाफ शिकायत सही पाए जाने के बाद एडीएम कोर्ट में मुकदमा चलाया गया। इसके बाद कोर्ट ने 16 जनवरी को जमीन को सरकार में दर्ज करने का आदेश दिया था।

इससे पूर्व कुछ दिनों पहले आजम खान यह झटका एमपी-एमएलए कोर्ट द्वारा जौहर ट्रस्ट की जमीन को लेकर सुनाए गए फैसले के रूप में लगा था। दरअसल, एमपी-एमएलए कोर्ट ने ट्रस्ट से जुड़ी साढ़े बारह एकड़ से अधिक भूमि राज्य सरकार को लौटाने का आदेश सुनाया था। इसके तहत 70.005 हेक्टेयर ज़मीन राज्य सरकार के पास आ जाएगी। एडीएम प्रशासन जेपी गुप्ता की कोर्ट ने ये आदेश दिया। इसके अलावा अदालत ने जमीन पर कब्जा करने का आदेश भी सुनाया था। कोर्ट द्वारा सुनाए गए फैसले के अनुसार, जौहर ट्रस्ट के द्वारा शर्तों का पालन नहीं किया गया था। आपको बता दें कि आजम खान मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं। ट्रस्ट पर शासन के आदेशों का पालन न करने का आरोप साबित हो गया है।

गौरतलब है कि आजम खान मोहम्मद अली जौहर जौहर यूनिवर्सिटी के संस्थापक होने के साथ कुलाधिपति भी हैं। विश्वविद्यालय से जुड़ी जमीनों को लेकर काफी वक्त से विवाद चल रहा है। साल 2019 में आजम खान पर जमीन कब्जा करने के 30 मुकदमे दर्ज कराये गये थे। प्रशासन द्वारा उन्हें भूमाफिया घोषित कर दिया था। इसेक बाद उन्हें जेल भेज दिया गया था।