Thursday , November 26 2020

कोरोना संकट बढ़ा तो शाही स्नान की सांकेतिक परंपरा निभाई जा सकती

हरिद्वार। त्योहारी सीजन के बाद बढ़ती ठंड में कोरोना की दूसरी लहर का खतरा सता रहा है। जिसका असर प्रदेश में देखा जा सकता है। कोरोना के मरीजों की संख्या एक बार फिर से बढ़ने लगी है। जानकारों के मुताबिक हरिद्वार महाकुंभ पर भी इसका असर पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें: अटेवा के पेंशनविहीन प्रत्याशियों के चुनाव में उतरने से राजनैतिक दलों की बंधी घिग्घी

यह भी पढ़ें: अबकी भाजपा योगी आदित्यनाथ का चेहरा आगे करके लड़ेगी चुनाव

कोरोना संकट बढ़ा तो शाही स्नान की सांकेतिक परंपरा निभाई जा सकती

जानकारी के मुताबिक अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने साफ कर दिया है कि यदि कोरोना संकट गहराया तो अखाड़ों के शाही स्नान की सांकेतिक परंपरा का निर्वहन किया जाएगा। उधर, प्रदेश सरकार ने भी स्पष्ट किया है कि महाकुंभ का जो भी स्वरूप संत समाज तय करेगा, उसका अक्षरश: पालन होगा। शासन में 22 नवंबर को संतों के साथ बैठक है, जिसमें अखाड़ा परिषद अपनी यह राय रख सकता है।

यह भी पढ़ें: घंटों जल में खड़े रहकर महिलाओं ने उदीयमान सूर्यदेव को दिया अर्ध्य

दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामलों में हो रही बढ़ोतरी को देखते हुए अखाड़ा परिषद ने यह राय प्रकट की है। परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी और महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरी महाराज का कहना है कि महाकुंभ की भव्यता और दिव्यता कोरोना की स्थिति पर निर्भर करेगी। बता दें कि प्रदेश में कोरोना की दस्तक देने के दिन से ही महाकुंभ पर इसका साया मंडराने को लेकर आशंकाएं गहराती रही हैं। देश के अन्य राज्यों की तरह उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी आई, लेकिन खतरा अब भी बना हुआ है।

यह भी पढ़ें: बड़ी कार्रवाई: गोमती रिवर फ्रंट घोटाले में सीबीआई ने चीफ इंजीनियर को किया गिरफ्तार

इसकी बानगी दिल्ली है, जहां कोरोना संक्रमितों की संख्या में वृद्धि हो रही है। राज्य सरकार का स्वास्थ्य विभाग भी मान रहा है कि फेस्टिवल सीजन और बढ़ती सर्दी में कोरोना संक्रमण बढ़ सकता है। यानी कोरोना की दूसरी लहर राज्य में आ सकती है। हरिद्वार महाकुंभ का आयोजन जनवरी 2021 से अप्रैल 2021 तक होना है। ऐसे में महाकुंभ पर कोरोना का साया बना हुआ है। इस खतरे का एहसास संत समाज को भी है।

यह भी पढ़ें: “हक की बात जिलाधिकारी के साथ” कर सकेंगी महिलाएं

कोरोना काल में महाकुंभ में जुटने वाली भीड़ को लेकर सरकार आशंकित है। ऐसी परिस्थितियों में अखाड़ा परिषद का बयान सरकार को राहत देने वाला माना जा रहा है। हालांकि सरकार हिंदू धर्म के इस सबसे बड़े आयोजन के स्वरूप के बारे में फैसला संत समाज पर ही छोड़ रही है। उसका कहना है कि संत समाज जो तय करेगा, सरकार को उसका पालन करना है। सरकार की ओर से सारी परिस्थितियां संत समाज के समक्ष रख दीं जाएंगी।