Sunday , November 29 2020

गोपाष्टमी 22 नवंबर को, लोग गाय माता (गोधन) की पूजा करते हैं

कार्तिक शुक्ल अष्टमी को यह पर्व मनाया जाता है। इस वर्ष बार  22 नवंबर ,रविवार को कार्तिक शुक्ल अष्टमी गोपाष्टमी के रूप में मनाई जाएगी। अष्टमी तिथि 21 नवम्बर को रात्रि 09:48 से प्रारम्भ  होकर 22 नवम्बर की रात्रि 10: 51 तक है यह गायों की पूजा और प्रार्थना करने के लिए समर्पित एक त्यौहार है।

यह भी पढ़ें: नगरोटा मुठभेड़ के बाद हुए खुलासे ने उड़ाए पीएम मोदी के होश, बुलाई हाईलेवल मीटिंग

लोग गाय माता (गोधन) की पूजा करते हैं

इस दिन, लोग गाय माता (गोधन) की पूजा करते हैं और गायों के प्रति कृतज्ञता और सम्मान प्रदर्शित करते हैं जिन्हें जीवन देने वाला माना जाता है। हिंदू संस्कृति में, गायों को ‘गौ माता’ कहा जाता है और उनकी देवी की तरह पूजा की जाती है गायों को हिंदू धर्म और संस्कृति की आत्मा माना जाता है।  देवताओं की तरह उनकी पूजा  की जाती है। ऐसा माना जाता है कि कई देवियां और देवता एक गाय के अंदर निवास करते हैं और इसलिए गाय हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व रखती हैं। गाय को आध्यात्मिक और दिव्य गुणों का स्वामी माना जाता है और यह देवी पृथ्वी का एक और रूप है।  गोपाष्टमी की पूर्व संध्या पर गाय की पूजा करने वाले व्यक्तियों को एक खुशहाल जीवन और अच्छे भाग्य का आशीर्वाद मिलता है। यह भक्तों को उनकी इच्छाओं को पूरा करने में भी मदद करता है।

स्वास्तिक ज्योतिष केन्द्र, अलीगंज, लखनऊ के ज्योतिषाचार्य एस.एस.नागपाल

पौराणिक कथा

जब कृष्ण भगवान ने अपने जीवन के छठे वर्ष में कदम रखा। तब वे अपनी मैया यशोदा से जिद्द करने लगे कि वे अब बड़े हो गये हैं और  वे गैया चराना चाहते हैं। उनके हठ के आगे मैया को हार माननी पड़ी और मैया ने उन्हें अपने पिता नन्द बाबा के पास इसकी आज्ञा लेने भेज दिया। वह दिन गोपाष्टमी का था। जब श्री कृष्ण ने गैया पालन शुरू किया गौ चरण करने के कारण ही, श्री कृष्णा को गोपाल या गोविन्द के नाम से भी जाना जाता है।

पौराणिक कथा

ब्रिज में इंद्र का प्रकोप इस तरह बरसा की लगातार बारिश होती रही, जिससे बचने के लिए श्री कृष्ण जी ने 7 दिन तक गोबर्धन पर्वत को अपनी सबसे छोटी ऊँगली से उठाये रखा, उस दिन को गोबर्धन पूजा के नाम से मनाया जाने लगा। गोपाष्टमी के दिन ही स्वर्ग के राजा इंद्र देव ने अपनी हार स्वीकार की थी, जिसके बाद श्रीकृष्ण ने गोबर्धन पर्वत को अपनी उंगली से उतार कर नीचे रखा था। भगवान कृष्ण स्वयं गौ माता की सेवा करते हुए, गाय के महत्व को सभी के सामने रखा। गौ सेवा के कारण ही इंद्र ने उनका नाम गोविंद रखा।