Wednesday , January 20 2021

जशन उर्दू का जिसमें मोहसिन खान की किताब ‘अल्लाह का कारखाना’ का हुआ विमोचन

लखनऊ। आज उर्दू अकादमी लखनऊ में जशन उर्दू का आयोजन अब्दुल नसीर नासिर चेयर मेन डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम ट्रस्ट की सदारत में आयोजित किया गया। शायरी  की ही तरह उर्दू नाटकों और रंगमंच की भी उत्कृष्ट परम्परा रही है। सय्यद मेहदी हसन, अहसन लखनवी और पण्डित नारायन प्रसाद बेताब जैसे अनेक मशहूर उर्दू नाटककार हुए हैं। आज के सोशल मीडिया के दौर में नई तकनीकों को लेकर नई तरक्की हासिल कर रहे उर्दू रंगमंच का सफर रोमांचित करता है।

जशन उर्दू का जिसमें मोहसिन खान की किताब ‘अल्लाह का कारखाना’ का हुआ विमोचन

यह कहना था उन वक्ताओं का जो यहां उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी में आयोजित जश्ने उर्दू के दूसरे और समापन दिवस सुबह के पहले सत्र में शामिल थे। वक्ताओं ने यहां प्रगतिशील कन्हैयालाल कपूर और इस्मत चुग्ताई प्रमुख थे। एसके प्रसाद के संचालन में चले इस सत्र के वक्ताओं में, सीमा मोदी, मंजुल आजाद, निशा व यूसुफ खान शामिल थे।

उर्दू शिक्षा पर केन्द्रित दूसरे सत्र में नवाब जाफर मीर अब्दुल्लाह व अब्दुल नसीर नासिर  ने आह्वान किया कि जो लोग उर्दू जानते हैं और बोलते हैं, उन्हें अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए प्रदेश और देश भर में उर्दू माध्यम स्कूलों की स्थापना के लिए एक अभियान शुरू करना चाहिए।  बल्कि उर्दू के महत्व को भी बढ़ाएगा। वक्ताओं ने कहा कि उत्तर प्रदेश सहित अनेक राज्यों में उर्दू को दूसरी राजभाषा का दर्जा मिला है। अगले सत्र में, शाहिद, निगहत खान, एस.जरीन व प्रियंका गुप्ता ने उर्दू संस्कृति और परम्पराओं पर विचार रखे। संचालन वॉमिक खान ने किया ।

इस मौके पर मोहसिन खान की किताब ‘अल्लाह का कारखाना’ का विमोचन अब्दुल नसीर नासिर के कर कमलों से हुआ। आखिर में अबरार लखनवी के संचालन में हुए मुशायरें में सहरयार जलालपुरी ,सरला शर्मा, रूबीना अयाज़, फरू क़ादिल, शाहबाज़ तालिब शामिल हुए। इसके अलावा श्रोताओं के सामने एएम तुरज ने तुरजनामा की पेशकश रखी। जष्न-ए-उर्दू के पहले सीजन में विभिन्न विभूतियों को अल्लामा इक़बाल एवार्ड से नवाजा गया जिस में रोहित कुमार, मीनाक्षी त्रिपाठी,एन एन नासिर, अज़हर मिर्ज़ा, एम रामषाद,एसएन लाल, कुदरत खान को संस्था के अध्यक्ष संजय सिहं व सचिव वॉमिक खान ने नवाज़ा। संचालन वामिक ख़ान ने किया।