Saturday , November 28 2020

घंटों जल में खड़े रहकर महिलाओं ने उदीयमान सूर्यदेव को दिया अर्ध्य

लखनऊ। लोक आस्था के महापर्व छठ के चार दिनी अनुष्ठान के चौथे दिन शनिवार को महिलाओं ने घंटो जल में खड़े रहकर भोर सुबह में उदीयमान सूर्यदेव को अर्ध्य देकर सुख-समृद्धि की कामना की। इसके साथ ही सूर्य उपासना का यह महापर्व सम्पन्न हुआ। लखनऊ में भी पर्व धूमधाम से मनाया गया।

यह भी पढ़ें: अटेवा के पेंशनविहीन प्रत्याशियों के चुनाव में उतरने से राजनैतिक दलों की बंधी घिग्घी

यह भी पढ़ें: अबकी भाजपा योगी आदित्यनाथ का चेहरा आगे करके लड़ेगी चुनाव

घंटों जल में खड़े रहकर महिलाओं ने उदीयमान सूर्यदेव को दिया अर्ध्य

प्रत्येक साल दीवाली के छठे दिन यानी कार्तिक शुक्ल की षष्ठी को छठ पर्व ( छठ पूजा ) मनाया जाता है। छठी मइया की पूजा की शुरुआत चतुर्थी को नहाए-खाय से होती है । गोमती नगर विस्तार मे स्थिति कल्पतरू आपार्टमेण्ट के बगल मे बने पार्क मे धूम-धाम से छठ पर्व को मनाया गया जिसमे कल्पतरू आपार्टमेण्ट के महिला पुरूष सहित गोमती नगर विस्तार के बहुत सारे लोग इस पूजा मे सम्मिलित हुए जिसमें गोमती नगर विस्तार महासमित के सचिव उमाशंकर दूबे अपनी पत्नी पारूल दूबे के साथ शामिल होकर छठ मइया की पूजा आराधाना की यह जानकारी गोमतीनगर विस्तार महासमित के उपाध्यक्ष/ शोशल मीडिया प्रभारी अधिवक्ता रामकुमार यादव ने दी ।

उधर प्रदेश के बरेली शहर में व्रती महिलाओं ने घाट पर भगवान भाष्कर को अघ्र्य देकर पुत्र, परिवार और समाज के कल्याण की मंगलकामना की। कोरोना महामारी से मुक्ति दिलाने की प्रार्थना की। इज्जतनगर के नगरिया परीक्षित घाट, रुहेलखंड विश्वविद्यालय और आईवीआरआई में बने घाटों पर महिलाओं ने छठी मैया के गीत गाए और एक-दूसरे को बधाई दी। छठी व्रत का महिलाओं ने प्रसाद खाकर पारण किया और घरों में प्रसाद वितरित किए गए। इस मौके पर घाटों पर फूल-पत्तियों से खूब सजाया गया था। महिलाओं ने श्रद्धाभाव से उगते सूर्य देव को अघ्र्य देकर विधिविधान से छठी से व्रत संपूर्ण किया।
उधर गोंडा में शहर के खैरा भवानी मंदिर जलाशय में सैकड़ों महिलाएं देर रात से ही जल में खड़े होकर उदीयमान सूर्यदेव की प्रतीक्षा करती रही। इस दौरान कोविड नियमों का पालन करते हुए छठ मइया का पूजन अर्चन किया।